Header Ads

 
175 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरात तट से टकरायेगा तूफान वायु
Wednesday, Jun 12 2019
 

गांधीनगर | 12 जून अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान वायु ने और गंभीर स्वरूप धारण कर लिया है और इसके पूर्व में अनुमानित की तुलना में और अधिक तीव्रता से गुजरात के सौराष्ट्र के निकट कल सुबह जमीन से टकराने लैंडफॉल की संभावना है। अहमदाबाद मौसम केंद्र के निदेशक जयंत सरकार ने आज यूएनआई को बताया कि अब इसने अति गंभीर च्रकवाती तूफान का स्वरूप ले लिया है। सुबह यह गुजरात के वेरावल तट से लगभग 340 किमी दक्षिण में स्थित था। यह कल सुबह पोरबंदर से महुवा के बीच वेरावल के आसपास जमीन से टकरायेगा। उस समय इसकी गति पूर्व के अनुमानित 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटा की तुलना में और अधिक 145 से 155 किमी प्रति घंटा रहने की संभावना है तथा इसके साथ कभी कभी पवन की गति 175 किमी प्रति घंटा तक पहुंच जायेगी। इस बीच इसके मद्देजनर तटवर्ती जिलों व्यापक एहतियाती उपाय किये गये हैं। तटवर्ती 11 जिलों के स्कूलों में आज और कल अवकाश की घोषणा कर दी गयी है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने केवल इसी विषय पर आज कैबिनेट की बैठक आहूत की है। सभी प्रभारी मंत्रियों को उनके जिलों में रहने की ताकीद की गयी है। इसके अलावा सभी सरकारी अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गयी हैं। हजारों की संख्या में मछुआरों की नौकाएं वापस लौट आयी हैं जबकि घोघा और दहेज के बीच खंभात की खाडी में चलने वाली रो रो फेरी सेवा को कल से तीन दिन के लिए बंद कर दिया गया है। लगभग 408 तटवर्ती गांवों ओर निचले इलाकों से लोगों को स्थानांतरित करने का काम आज सुबह शुरू हो गया है। कुल लगभग तीन लाख लोगों को स्थानांतरित किया जायेगा। राहत और बचाव कार्य के लिए सेना के तीनों अंगों को भी तैयार रखा गया है। एनडीआरएफ की तीस से अधिक टुकडियां इन इलाको में तैनात हैं। तूफान के मद्देनजर तटवर्ती इलाकों में भारी वर्षा की आशंका भी व्यक्त की गयी है। समुद्र तटों पर लोगों को नहीं जाने की सलाह दी गयी है। उधर तटवर्ती इलाकों समेत राज्य के कई स्थानों पर आज बादलयुक्त वातावरण हैं और कई स्थानों पर बूंदाबांदी भी हुई है। समुद्र तट पर ऊंची लहरे उठ रही हैं। गौरतलब है कि इससे पहले दो बार ऐसे तूफानों की चेतावनी अंत में फुस्स साबित हुई थी। वर्ष 2014 के अक्टूबर में नीलोफर तूफान और 2017 दिसंबर में ओखी तूफान गुजरात तट से टकराते समय महज निम्न दबाव के मामूली क्षेत्र में तब्दील हो गये थे। इनसे कोई नुकसान नहीं हुआ था जबकि इससे पहले इनसे निपटने के लिए व्यापक तैयारी की गयी थी और सेना के तीनो अंगों को भी तैयार रखा गया था। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
दिल्ली में मौसम हुआ खुशनुमा, बारिश का अनुभान       Lokswami      
अनंतनाग मुठभेड:दो आतंकवादी ढेर, दो जवान घायल       Lokswami      
चिकित्सकों की हडताल से चरमराई चिकित्सा व्यवस्था       Lokswami      
क्रिकेट बुकी पर छापा, सटोरिया नशीली दवाइयों सहित गिरफ्तार       Lokswami      
कार के नहर में गिरने से ग्राम सेवक की मौत       Lokswami      
वर्षा से तापमान में गिरावट आने से भीषण गर्मी में आई कमी       Lokswami      
दक्षिण अफ्रीका में सडक दुर्घटना में 24 लोगों की मौत       Lokswami      
न्यूजीलैंड में भूकंप के तेज झटके       Lokswami      
त्रिपुरा में भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन पर खतरा       Lokswami      
संत कबीर ने मानवता को दिखाया सामाजिक समरसता और सदभाव का मार्ग-भूपेश       Lokswami      
हर मोर्चे पर विफल कमलनाथ सरकार : नरोत्तम       Lokswami      
बाल सुधार गृह से फरार किशोरों का सुराग नहीं,योगी ने मांगा स्पष्टीकरण       Lokswami      
मोदी, राजनाथ, शाह, तोमर, स्मृति ने लोकसभा की सदस्यता की शपथ ली       Lokswami      
लेफ्टिनेंट जनरल हमीद हाेंगे आईएसअाई के नये प्रमुख       Lokswami      
चंबा में कार खाई में गिरी, एक व्यक्ति की मौत दो गम्भीर रूप से घायल       Lokswami      
पंजाब के एक युवक की गिरी नदी में डूबने से मौत       Lokswami      
शिव मंदिर हुआ आग में तबाह       Lokswami      
मुखबिरी के संदेह में नक्सली कमांडर की हत्या       Lokswami      
सेवा भावना से काम करेंगे रविकिशन       Lokswami      
नवनीत राणा मुद्दों के आधार पर मोदी सरकार को देगी समर्थन       Lokswami