Header Ads

 
सीबीआई निदेशक की याचिका पर सुनवाई पूरी. फैसला सुरक्षित
Thursday, Dec 6 2018
 

नयी दिल्ली 06 दिसम्बर उच्चतम न्यायालय ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई निदशेक आलोक वर्मा से अधिकार वापस लेने और उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुआई वाली खंडपीठ ने गुरुवार को श्री वर्मा और स्वयंसेवी संगठन ‘काॅमन काॅज’ की श्री वर्मा से अधिकार वापस लेने और छुट्टी पर भेजे जाने वाली याचिकाओं पर सुनवाई पूरी की और फैसला सुरक्षित रख लिया। श्री वर्मा को सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के साथ हुए विवाद के बाद सरकार ने 23 अक्टूबर को छुट्टी पर भेज दिया था। दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे। मुख्य न्यायाधीश और न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायाधीश के एम जोसेफ की खंड पीठ ने सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार के फैसले पर कडा रुख दिखाया। खंडपीठ ने सवाल किया कि सीबीआई के दो उच्च पदस्थ अधिकारियों के बीच लडाई रातोंरात सामने नहीं आयी थी। न्यायालय ने कहा कि यह ऐसा मामला नहीं था कि सरकार को चयन समिति से बातचीत किए बिना सीबीआई निदेशक की शक्तियों को तुरंत खत्म करने का निर्णय लेना पडा। श्री गोगोई ने कहा कि सरकार ने स्वयं यह स्वीकार किया है कि ऐसी स्थितियां जुलाई से ही उत्पन्न हो रही थी। खंडपीठ ने कहा कि यदि केंद्र सरकार निदेशक के अधिकारों पर रोक लगाने से पहले चयन समिति से इसकी मंजूरी ले लेती तो कानून का बेहतन पालन होता। खंडपीठ ने कहा कि सरकार की कार्रवाई की भावना संस्थान के हित में होनी चाहिए। मुख्य न्यायाधीश ने सवाल किया कि “जब श्री वर्मा कुछ माह में सेवानिवृत्त होने वाले थे तो कुछ और माह का इंतजार तथा चयन समिति से परामर्श क्याें नहीं किया गया ।’’ बुधवार को इस मामले पर सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता के के वेणुगोपाल ने न्यायालय के समक्ष सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सरकार को सीबीआई निदेशक और श्री अस्थाना के बीच चल रहे विवाद में इसलिए हस्तक्षेप करना पडा क्योंकि दोनों बिल्लियों की तरह झगड रहे थे। सरकार को प्रमुख जांच एजेंसी की विश्वसनीयता और अखंडता को बनाये रखने के लिए दखल देना पडा। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
तुम हालातों की भट्टी में जब-जब भी मुझको झोंकोगे तब तपकर सोना बनूंगा मैं, तुम मुझको कब तक रोकोगे       Lokswami      
पुलवामा हमले के समय कहां थे मोदी: कांग्रेस       Lokswami      
कुवैत में 161 कैदियों को रिहा करने का आदेश       Lokswami      
सीरिया में 200 अमेरिकी शांति सैनिक रहेंगे मौजूद: व्हाइट हाउस       Lokswami      
मंडावा में अंतरराष्ट्रीय घुडदौड प्रतियोगिता दो मार्च से       Lokswami      
परिवहन मंत्री ने किया स्कूल बसों का निरीक्षण       Lokswami      
बस्तर की स्थिति बताने तीन सौ से ज्यादा सायकल यात्री यात्रा पर       Lokswami      
कमलनाथ की लोगों से स्वाइन फ्लू से बचाव की अपील       Lokswami      
दिल्ली में बादलों की लुका-छिपी, वायु गुणवत्ता सामान्य       Lokswami      
रूपहले पर्दे को अपनी दिलकश अदाओं से सजाया मधुबाला ने       Lokswami      
पंजाबी फिल्म में काम करेंगी जरीन खान       Lokswami      
दीपिका की पसंद के कपडे पहनते हैं रणवीर       Lokswami      
कंगना के साथ काम नहीं करना चाहते हैं अली अब्बास जफर!       Lokswami      
भारत-कोरिया के बीच कई महत्वूपर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर       Lokswami      
आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई का समय आ गया: मोदी       Lokswami      
सुरक्षा परिषद के बयान से पाकिस्तान पर दबाव बढा: भारत       Lokswami      
मादुरो ने ईयू से मानवीय सहायता लेने पर दी रजामंदी       Lokswami      
मोदी को सोल शांति पुरस्कार, पुरस्कार राशि नमामि गंगे को समर्पित       Lokswami      
कूरियर कंपनी के प्रबंधक से चार लाख 70 हजार की लूट       Lokswami      
इलेक्ट्रानिक्स दुकान से डेढ लाख रूपये की संपत्ति की चोरी       Lokswami