Header Ads

 
रतलाम-झाबुआ सीट पर प्रत्याशी चयन के लिए भाजपा की बढ़ी मशक्कत, कांग्रेस में प्रत्याशी तय लेकिन जख्म हरा
13/03/2019 04:08:01
 

झाबुआ/रतलाम 13 मार्च लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से सांसद कांतिलाल भूरिया का नाम लगभग तय है। स्क्रीनिंग कमेटी ने भी उनका नाम तय कर दिया है तो कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति में भी उनके नाम की ही चर्चा है, इधर भाजपा मुमकिन-नामुकिन में उलझी है। भाजपा में जो नाम चर्चा में हैं, उनमें से कुछ तो हाल ही में विधानसभा चुनाव हारे हैं, इसलिए पार्टी उनका नाम तय नहीं कर पा रही है। और जो नाम चल रहे हैं उनके माइनस पाइंट भी पार्टी के पास पहुंच रहे हैं। 


पिता भूरिया के लिए बेटे की हार का जख्म, जेवियर की भी तैयारी 
सांसद भूरिया के लिए बेटे विक्रांत का विधानसभा चुनाव हारना हरा जख्म बना हुआ है। बेटे को नहीं जिता पाना भूरिया को कमजोर दिखा रहा है तो बेटे की हार का कारण बने निर्दलीय प्रत्याशी जेवियर मईड़ा फिर लोकसभा में कांग्रेस से टिकट पाने में लगे हैं, साथ ही टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय उतरने की तैयारी करने में जुटे हैं। 


जिपं अध्यक्ष मईड़ा व पूर्व विधायक चारेल ने दिया आवेदन 
जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मईड़ा व पूर्व जिलाध्यक्ष संगीता चारेल ने टिकट के लिए जिलाध्यक्ष राजेंद्रसिंह लुनेरा को आवेदन दिया है। लुनेरा ने बताया आवेदन प्रदेश संगठन मंत्री को भेजे हैं। 


भाजपा के पास दावेदार तो खूब है, तलाश है खाेई सीट वापस दिलाने जैसे प्रत्याशी की 
संगीता चारेल : सीएम ने रोका था बागी बनने से 
मुमकिन : सैलाना में पहली बार भाजपा को जीत दिलाई, विधायक बनीं। विधानसभा में टिकट नहीं दिया तो बागी हो नामांकन भर दिया। सीएम शिवराजसिंह चौहान ने खुद कॉल कर मनाया। 
नामुमकिन : पति विजय की दबंग छवि, टोल के विवाद में प्रकरण तक कायम हुआ। 


निर्मला भूरिया : लोक सभा व विधानसभा दोनों हारी 
मुमकिन -पूर्व विधायक, पूर्व मंत्री रहीं। पहले कांग्रेस व फिर भाजपा से सांसद रहे दिलीपसिंह भूरिया की बेटी। पिता के निधन के बाद उप चुनाव लड़ने का अनुभव। 
नामुमकिन -लोकसभा उप चुनाव हारीं। विधायक का चुनाव भी पेटलावद से हार गई। 


जीएस डामोर : एक विधायक कम होने का डर 
मुमकिन : सांसद कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत को हराने से स्थिति मजबूत। पीएचई के सेवानिवृत्त चीफ इंजीनियर डामोर ने झाबुआ जिले में काम करने के दौरान मजबूत पकड़ बनाई है। 

नामुमकिन : प्रदेश सरकार बनाने के दावे के लिए विधायकों की आवश्यकता रहेगी। 


कलसिंह भाबर : निर्दलीय भी जीते, 2018 में हारे 
मुमकिन -थांदला से दो बार के पूर्व विधायक है। 2013 में निर्दलीय चुनाव लड़कर भाजपा के प्रत्याशी गौरसिंह वसुनिया को हरा चुके हैं। इसके पहले भाजपा से विधायक रहे। 
नामुमकिन -2018 का विधानसभा चुनाव हार गए। 


माधौसिंह डामर - दो बार विधायक बने, दो बार हारे भी 
मुमकिन - 2003 और 2013 में दो बार जोबट से विधायक रहे। 
नामुमकिन - 2008 में हारे, 2018 का विधानसभा चुनाव भी हार गए। 


नागरसिंह चौहान : तीन बार विधायक की ताकत 
मुमकिन - आलीराजपुर से 2003 से 2018 तक लगातार तीन बार विधायक रहे हैं। पत्नी अनिता जिला पंचायत अध्यक्ष हैं। 2008 में इनके कार्यकाल में आलीराजपुर जिला बना। 
नामुमकिन -2018 का चुनाव हार चुके हैं। 2004 में भिलाला समाज की ही रेलमबाई हार गई थीं। 

ये भी हैं टिकट की दौड़ में 

झाबुआ पूर्व विधायक शांतिलाल बिलवाल, झाबुआ पूर्व जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष गौरसिंह वसुनिया, पूर्व विधायक नागरसिंह चौहान की पत्नी व झाबुआ जिला पंचायत अध्यक्ष संगीता, भाजपा जिला मंत्री व अजजा मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य पूनम प्रफुल्ल सोलंकी, रतलाम ग्रामीण पूर्व विधायक मथुरालाल डामर, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मईड़ा। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
महिलाओं को सम्मान मिले, इसलिए औरतों के कपड़े पहनकर चलाते हैं बस       Lokswami      
जरा सी बात पर कांग्रेस पार्षद ने निगम कर्मचारी को जड़ा थप्पड़, जानिए क्या है पूरा मामला       Lokswami      
आईपीएल मैचों का पूरा शेड्यूल जारी       Lokswami      
कमलनाथ सरकार को झटका, मप्र हाईकोर्ट ने ओबीसी आरक्षण पर लगाई रोक       Lokswami      
विनायक, पलक और शरद की ब्लैकमेलिंग से तंग होकर की थी भय्यू महाराज ने खुदकुशी       Lokswami      
कांग्रेसियों ने चौकीदार चोर है... के लगाए नारे, भाजपा सांसद महाजन को बताया निष्क्रिय       Lokswami      
मांडू में होगी दबंग-3 की शूटिंग, सलमान, अरबाज आएंगे       Lokswami      
भगोरिया में युवतियों को शादी के लिए भगाने की जद्दोजहद...       Lokswami      
दिग्विजय सिंह ने स्वीकारा चैलेंज, बोले- मैं चुनाव लड़ने को तैयार       Lokswami      
बक्शी के 50 मिनट के संबोधन में मौजूद लोगों ने कई बार तालियां बजाईं।       Lokswami      
आपको इंदौर में भी बहुत मजबूत प्रत्याशी मिलने वाला है, आप बेफिक्र रहिए - प्रियंका गांधी वाड्रा       Lokswami      
कांग्रेस पार्षद ने निगम कर्मचारी से की मारपीट, नाराज कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन       Lokswami      
भाजपा महासचिव विजयवर्गीय और महापौर गौड़ ट्विटर पर बने चौकीदार...लेकिन लोकसभा अध्यक्ष महाजन ने बनाई दूरी       Lokswami      
गुना-शिवपुरी से सिंधिया, छिंदवाड़ा से नकुलनाथ और रतलाम से भूरिया के नाम पर सहमति       Lokswami      
कमलनाथ बोले- दिग्विजय को प्रदेश की सबसे कठिन सीट पर चुनाव लड़ना चाहिए       Lokswami      
मध्यप्रदेश में आधा दर्जन सीटों पर तीन दशक से कांग्रेस का 'सूखा'       Lokswami      
मध्यप्रदेश कांग्रेस में आपस में टकराव, टिकट कटवाने के लिए जोर आजमाइश       Lokswami      
चुनावी बिगुल बजा, फिर भी माहौल ठंडा       Lokswami      
रात 12.30 बजे दो साल की बेटी के साथ राउंड पर इंदौर एसएसपी       Lokswami      
'अतुल्य' आईटी पार्क का शुभारंभ, लेट आने पर खेल मंत्री पटवारी ने सुमित्रा महाजन से मांगी माफी       Lokswami