Header Ads

 
फिल्म केदारनाथ के प्रदर्शन पर रोक लगाने से उच्च न्यायालय का इन्कार
Thursday, Dec 6 2018
 

नैनीताल 06 दिसंबर उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने विवादित फिल्म केदारनाथ के प्रदर्शन पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया है। उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन व न्यायाधीश रमेश चंद खुल्बे की युगलपीठ ने मामले की सुनवाई करते कानून का हवाला देते हुए इसे सरकार के पाले में डाल दिया है। सरकार चाहे तो अब इस पर वह कोई निर्णय ले सकती है। इसके साथ ही न्यायालय ने याचिका को पूरी तरह से निस्तारित कर दिया। सरकार ने उच्च न्यायालय को बताया कि सरकार ने इस मामले की समीक्षा के लिए एक उच्च कमेटी का गठन किया है जो इस मामले की समीक्षा के बाद सरकार को रिपोर्ट पेश करेगी। उच्च न्यायालय ने साफ कहा कि उसे फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने के मामले में कोई अधिकार नहीं है। इस मामले में अदालत में लगभग आधे घंटे बहस चली। इस बीच याचिकाकर्ता की ओर से न्यायालय को बताया गया कि यह हिन्दूओं की आस्था से जुड़ा हुआ मामला है और इससे कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। इसके जवाब में उच्च न्यायालय ने कहा कि कानून व्यवस्था की स्थिति राज्य सरकार का मामला है। याचिकाकर्ता स्वामी दर्शन सिंह भारती और हरि कृष्ण किमोठी की ओर से पेश जनहित याचिका में कहा गया कि केदारनाथ हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र है और भगवान शिव के 12 ज्योर्तिलिंगों में से प्रमुख ज्योर्तिलिंग हैं। केदारनाथ को मोक्ष का धाम माना जाता है। फिल्म में केदारनाथ के इतिहास को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि फिल्म से देश ही नहीं दुनिया में केदारनाथ को लेकर गलत संदेश जाएगा। इससे देश के विभिन्न हिस्सों में दंगे भड़कने की आशंका है। इसलिये सात दिसंबर को प्रदर्शित होने वाली फिल्म पर वर्तमान स्वरूप में प्रदर्शित करने पर रोक लगायी जाए। उल्लेखनीय है कि इस मामले के गरमाने के बाद प्रदेश की त्रिवेन्द्र रावत सरकार ने पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर दिया था। इस कमेटी में गृह सचिव नितेश झा, सूचना सचिव दिलीप जावलकर व प्रदेश के डीजीपी अनिल रतूड़ी को बतौर सदस्य शामिल किया गया है। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
‘मॉर्डन गुरुकुल’ के ‘सेक्सी गुरु’ की नई सेक्सी स्टोरी...       Lokswami      
कमलनाथ पर अभी से मंडराने लगे सियासी आफती बादल       Lokswami      
दुष्कर्म मामले में विधायक राजवल्लभ समेत छह दोषी करार       Lokswami      
ब्राजील ने पहली स्वदेश निर्मित पनडुब्बी को किया लांच       Lokswami      
शादी के बाद खुद में बदलाव नहीं चाहते रणवीर सिंह       Lokswami      
एमएनएफ अध्यक्ष जोरमथांगा ने मिजोरम के नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली       Lokswami      
राजपक्षे का श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा       Lokswami      
विकास परक योजनाओं के तीर से कांग्रेस के गढ को भेदेंगे मोदी       Lokswami      
आनंदपाल प्रकरण में दर्ज मामलें वापस ले-कालवी       Lokswami      
24 दिसंबर को मिलेगी पनकी धाम रेलवे स्टेशन को पूर्ण मान्यता       Lokswami      
मुठभेड स्थलों पर प्रदर्शन से निपटने के उपाय सीखना जरूरी: उमर       Lokswami      
स्टार्टअप आयेंगे जीईएम प्लेटफॉर्म पर       Lokswami      
आग लगने से पांच घर जलकर नष्ट       Lokswami      
फ्रांस के साथ भारत के काफी पुराने और व्यापक रक्षा संबंध : सुषमा       Lokswami      
विषैला चारा खाने से 11 मवेशियों की मौत       Lokswami      
आॅस्ट्रेलिया ने माना पश्चिमी यरुशलम को इजरायल की राजधानी       Lokswami      
हवाई सीमा के उल्लंघन को लेकर इराक ने तुर्की राजदूत को किया तलब       Lokswami      
700 करोड के क्लब में शामिल हुयी 2.0 फिल्म       Lokswami      
शाहरूख ने ‘जीरो’ में काम करने की वजह बतायी       Lokswami      
शाहरूख के बाद रितेश बनेंगे बौना       Lokswami