Header Ads

 
फिल्म केदारनाथ के प्रदर्शन पर रोक लगाने से उच्च न्यायालय का इन्कार
Thursday, Dec 6 2018
 

नैनीताल 06 दिसंबर उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने विवादित फिल्म केदारनाथ के प्रदर्शन पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया है। उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन व न्यायाधीश रमेश चंद खुल्बे की युगलपीठ ने मामले की सुनवाई करते कानून का हवाला देते हुए इसे सरकार के पाले में डाल दिया है। सरकार चाहे तो अब इस पर वह कोई निर्णय ले सकती है। इसके साथ ही न्यायालय ने याचिका को पूरी तरह से निस्तारित कर दिया। सरकार ने उच्च न्यायालय को बताया कि सरकार ने इस मामले की समीक्षा के लिए एक उच्च कमेटी का गठन किया है जो इस मामले की समीक्षा के बाद सरकार को रिपोर्ट पेश करेगी। उच्च न्यायालय ने साफ कहा कि उसे फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने के मामले में कोई अधिकार नहीं है। इस मामले में अदालत में लगभग आधे घंटे बहस चली। इस बीच याचिकाकर्ता की ओर से न्यायालय को बताया गया कि यह हिन्दूओं की आस्था से जुड़ा हुआ मामला है और इससे कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। इसके जवाब में उच्च न्यायालय ने कहा कि कानून व्यवस्था की स्थिति राज्य सरकार का मामला है। याचिकाकर्ता स्वामी दर्शन सिंह भारती और हरि कृष्ण किमोठी की ओर से पेश जनहित याचिका में कहा गया कि केदारनाथ हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र है और भगवान शिव के 12 ज्योर्तिलिंगों में से प्रमुख ज्योर्तिलिंग हैं। केदारनाथ को मोक्ष का धाम माना जाता है। फिल्म में केदारनाथ के इतिहास को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि फिल्म से देश ही नहीं दुनिया में केदारनाथ को लेकर गलत संदेश जाएगा। इससे देश के विभिन्न हिस्सों में दंगे भड़कने की आशंका है। इसलिये सात दिसंबर को प्रदर्शित होने वाली फिल्म पर वर्तमान स्वरूप में प्रदर्शित करने पर रोक लगायी जाए। उल्लेखनीय है कि इस मामले के गरमाने के बाद प्रदेश की त्रिवेन्द्र रावत सरकार ने पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर दिया था। इस कमेटी में गृह सचिव नितेश झा, सूचना सचिव दिलीप जावलकर व प्रदेश के डीजीपी अनिल रतूड़ी को बतौर सदस्य शामिल किया गया है। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
बाग पंचायत ने लिखी जीतू पटवारी के जीत की इबारत       Lokswami      
‘मार्डन गुरुकुल’ कल्पवृक्ष का सेक्सी गुरु       Lokswami      
विधानसभा चुनावों में हुयी जीत अवाम और पार्टी अध्यक्ष की है: नगमा       Lokswami      
कडे अभ्यास से मिलता है पंसदीदा मुकाम : रिचा       Lokswami      
बाढ़ प्रभावितों को सहायता उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता:योगी       Lokswami      
भारत माला परियोजना के तहत बिछ रहा है सड़कों का जालःशाही       Lokswami      
राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर अधिकारियों और कर्मचारियों को दिलायी जायेगी शपथ       Lokswami      
रेड बुल एथलीट तुहीन ने सहायद्री चुनौती को पार किया       Lokswami      
विजेंदर ने ब्लाइंड एथलीटों को किया प्रेरित       Lokswami      
झारखंड को पटखनी देने को तैयार उत्तर प्रदेश       Lokswami      
पॉपुलर रैली में होगा नेशनल रैली चैम्पियन का फैसला       Lokswami      
2019 में भाजपा की धूमधाम से विदाई तय : बाबूलाल       Lokswami      
जर्मनी पर रोमांचक जीत से बेल्जियम सेमीफाइनल में       Lokswami      
सीरिया पहली बार विंटर ओलंपिक में उतारेगा एथलीट       Lokswami      
सिंधू ने वर्ल्ड नंबर वन जू यिंग को चौंकाया       Lokswami      
पाकिस्तान को हरा भारत एमर्जिंग कप फाइनल में       Lokswami      
एएफसी कप के लिये कोंस्टेनटाइन ने चुने 34 संभावित       Lokswami      
भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए: न्यायमूर्ति सेन       Lokswami      
भाजपा हाईकमान के निर्देश पर विदेश यात्रा से लौटे सिद्दारामैया       Lokswami      
पाकिस्तान ने पुंछ में किया संघर्ष विराम का उल्लंघन       Lokswami