Header Ads

 
पहली सिने पार्श्वगायिका शमशाद बेगम पर वृतचित्र का प्रदर्शन
Wednesday, Apr 10 2019
 

नयी दिल्ली 10 अप्रैल “मेरे पिया गए रंंगून वहां से किया है टेलीफून” जैसे मशहूर गीत को स्वरबद्ध करने वाली पार्श्व गायिका शमशाद बेगम की जन्मशती के मौके पर 12 अप्रैल को यहां राष्ट्रीय इंदिरा गांधी कला केंद्र में एक डाक्यूमेंटरी का प्रदर्शन किया जायेगा। जलियांवाला बाग घटना के अगले दिन 14 अप्रैल 1919 को लाहौर में जन्मी शमशाद बेगम पर यह फ़िल्म प्रसिद्ध फ़िल्म पत्रकार राजीव श्रीवास्तव ने बनायी है। वे जयप्रकाश नारायण, मुकेश पर भी फ़िल्म बना चुके हैं। फ़िल्म में ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित शमशाद बेगम का एक साक्षात्कार भी है। वर्ष 1940 से 1960 के बीच करीब छह हज़ार गीत गा चुकी इस गायिका पर बनी फिल्म में आवाज़ मशहूर उद्घोषक अमीन सयानी की हैं। शमशाद बेगम के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर ‘राष्ट्रीय फिल्म संग्रहालय’से सहयोग से बनी यह फ़िल्म एक घण्टे की अवधि की है। डॉ श्रीवास्तव ने यूनी को बताया कि फिल्म में गायिका शमशाद बेगम नेे स्वयं अपने जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं को बताया है। उन दिनों आकाशवाणी के लाहौर, जालन्धर, दिल्ली और लखनऊ केंद्रों पर गाते हुए उनकी अत्यधिक लोकप्रियता से ही उन्हें फिल्मों में गाने का आमन्त्रण मिला। उन्होंनेे राज कपूर, मदन मोहन, किशोर कुमार जैसे लोगों की सहायता की। कैसे वो उस समय के शीर्ष नायक-गायक कुन्दन लाल सहगल से मिलीं और कैसे वो हिन्दू परिवार में प्रेम विवाह कर सदा के लिए भारत में बस गयीं, इन सब का विवरण इस फिल्म में देखा जा सकता है। महात्मा गांधी के निधन पर विशेष रूप से शमशाद बेगम द्वारा गाया गया दुर्लभ ‘श्रद्धांजलि गीत’ इस फिल्म का हिस्सा है। फिल्म ‘पाकीजा’ का लोकप्रिय गीत ‘इन्हीं लोगों ने ले लीन्हा दुपट्टा मेरा’ वर्षों पूर्व शमशाद गा चुकी थीं, उसकी भी रोचक कथा इस फिल्म में सम्मिलित है। डॉ श्रीवास्तव ने बताया कि 94 वर्ष उम्र में भी वह पूर्ण रूप से स्वस्थ, सक्रिय और हंसमुख थीं। उन्हें अपने बालपन से लेकर समस्त महत्वपूर्ण घटनाएं याद थी। इस फ़िल्म को जब उनके घर उन्हें दिखाया गया तो वो प्रसन्नता से फूली नहीं समायी। उनके मुख पर किसी छोटे बच्चे की निश्छल मुस्कान थी। उन्होंने स्वयं ही गोवा में उस वर्ष आयोजित होने वाले भारत के अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में इस फिल्म के प्रथम प्रदर्शन के अवसर पर उपस्थित रहने की बात कही थी। घर पर अपनी ये फिल्म देखने के दस दिनों के अन्दर ही 23 अप्रैल 2013 को उनका निधन हो गया। उस समय उनकी आयु 94 वर्ष नौ दिन थी। शमशाद बेगम के इस जन्मशती वर्ष में ही उन पर शोधपूर्ण पुस्तक लिखने के कार्य में जुटे डॉ राजीव श्रीवास्तव पूर्व में गायक मुकेश और संगीतकार कल्याणजी-आनन्दजी पर पुस्तक लिख चुके हैं साथ ही उन पर फिल्म का निर्माण एवं निर्देशन भी कर चुके हैं। ‘ शमशाद बेगम पर सरकार ने एक डाक टिकट भी जारी किया है। शमशाद बेगम के स्वरबद्ध मशहूर गीतों में ‘रेश्मी सलवार कुर्ता जाली का’, ‘कहीं आर कहीं पार’, ‘कजरा मोहब्बत वाला’, ‘कहीं पे निगाहें, कहीं पे निशाना’, ‘लेके पहला-पहला प्यार’ जैसे गीत शामिल हैं। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
बंगाल में पुल गरने से दो मरे , चार घायल       Lokswami      
जी20 शिखर सम्मेलन से इतर आरआईसी की बैठक में भाग लेंगे जिनपिंग       Lokswami      
कंबोडिया इमारत हादसे में मृतकों की संख्या 24 हुई       Lokswami      
दिमागी बुखार मौत मामले को लेकर बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस       Lokswami      
बंगलादेश में ट्रेन हादसे में चार मरे ,100 घायल       Lokswami      
मॉरिटानिया के पूर्व रक्षा मंत्री राष्ट्रपति चुनाव में विजयी       Lokswami      
कबीर सिंह ने वीकेंड पर 70 करोड की कमाई की       Lokswami      
अच्छी स्क्रिप्ट वाली फिल्मों में काम करती हैं रानी मुखर्जी       Lokswami      
मोगैम्बो का किरदार पहले मुझे ऑफर हुआ था: अनुपम खेर       Lokswami      
करण जौहर की फिल्म में फिर नजर आ सकती हैं अनन्‍या पांडेय       Lokswami      
हॉलीवुड में काम करेंगी श्रुति हासन       Lokswami      
अभिनेत्रियों को अलग पहचान दिलायी करिश्मा ने       Lokswami      
अभिनेत्री रेखा की मौजूदगी के बावजूद करिश्मा कपूर अपने सशक्त अभिनय से दर्शको की वाहवाही लूटने में सफल रही।       Lokswami      
‘नहीं हुआ मदन मोहन जैसा संगीतकार ’       Lokswami      
रिजर्व बैंक के डिप्‍टी गवर्नर आचार्य ने दिया इस्‍तीफा       Lokswami      
आज बंगलादेश के सामने अफगान चुनौती       Lokswami      
इंडोनेशिया में भूकंप के जोरदार झटके       Lokswami      
योगी ने मुरादाबाद में हुई सड़क दुर्घटना तीन लोगों की मृत्यु पर व्यक्त किया शोक       Lokswami      
मायावती ने सपा की तरह ही छत्तीसगढ में भी तोडा था जनता कांग्रेस से नाता       Lokswami      
नीमच जेल से कैदियों के भागने के मामले में एक हिरासत में       Lokswami