Header Ads

 
गायक बनने की तमन्ना रखते थे आनंद बख्शी
Saturday, Jul 20 2019
 

मुंबई 20 जुलाई अपने सदाबहार गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाने वाले बालीवुड के मशहूर गीतकार आनंद बख्शी ने लगभग चार दशक तक श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह गीतकार नहीं बल्कि पार्श्वगायक बनना चाहते थे। पाकिस्तान के रावलपिंडी शहर में 21 जुलाई 1930 को जन्मे आनंद बख्शी को उनके रिश्तेदार प्यार से नंद या नंदू कहकर पुकारते थे। ‘बख्शी’ उनके परिवार का उपनाम था जबकि उनके परिजनों ने उनका नाम आनंद प्रकाश रखा था। लेकिन फिल्मी दुनिया में आने के बाद आनंद बख्शी से नाम से उनकी पहचान बनी। आनंद बख्शी बचपन से ही फिल्मों में काम करके शोहरत की बुंलदियों तक पहुंचने का सपना देखा करते थे लेकिन लोगो के मजाक उडाने के डर से उन्होंने अपनी यह मंशा कभी जाहिर नहीं की थी। वह फिल्मी दुनिया में गायक के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहते थे। आनन्द बख्शी अपने सपने को पूरा करने के लिये 14 वर्ष की उम्र मे ही घर से भागकर फिल्म नगरी मुंबई आ गए जहां उन्होंने रॉयल इडियन नेवी मे कैडेट के तौर पर दो वर्ष तक काम किया। किसी विवाद के कारण उन्हें वह नौकरी छोडनी पडी। इसके बाद 1947 से 1956 तक उन्होंने भारतीय सेना में भी नौकरी की। बचपन से ही मजबूत इरादे वाले आनंद बख्शी अपने सपनों को साकार करने के लिये नये जोश के साथ फिर मुंबई पहुंचे जहां उनकी मुलाकात उस जमाने के मशहूर अभिनेता भगवान दादा से हुयी। शायद नियति को यही मंजूर था कि आनंद बख्शी गीतकार ही बने। भगवान दादा ने उन्हें अपनी फिल्म ‘भला आदमी’ में गीतकार के रूप में काम करने का मौका दिया। इस फिल्म के जरिये वह पहचान बनाने में भले ही सफल नहीं हो पाये लेकिन एक गीतकार के रूप में उनके सिने कैरियर का सफर शुरू हो गया। अपने वजूद को तलाशते आनंद बख्शी को लगभग सात वर्ष तक फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष करना पडा। वर्ष 1965 में ‘जब जब फूल खिले’ प्रदर्शित हुयी तो उन्हे उनके गाने ..परदेसियों से न अंखियां मिलाना.. ..ये समां.. समां है ये प्यार का.. एक था गुल और एक थी बुलबुल..सुपरहिट रहे और गीतकार के रूप में उनकी पहचान बन गई। इसी वर्ष फिल्म ‘हिमालय’ की गोद में’ उनके गीत ..चांद सी महबूबा हो मेरी कब ऐसा मैंने सोंचा था.. को भी लोगो ने काफी पसंद किया। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
पाकिस्तान भारत के साथ तनाव कम करे-ट्रंप       Lokswami      
पिछले 24 घंटों के दौरान सीरिया में आतंकवादियों ने 31 हमले किये       Lokswami      
कश्मीर मुद्दे का संरा घोषणा पत्र के अनुसार समाधान हो: चीन       Lokswami      
गाजा में इजरायली सेना के साथ संघर्ष में 33 फिलीस्तीनी घायल       Lokswami      
जम्मू में टूजी इंटरनेट सेवा बहाल       Lokswami      
अमेरिका में कई हवाई अड्डों पर संचालन प्रणाली बाधित       Lokswami      
जयशंकर की सुलिवान से मुलाकात, अफगानिस्तान में शांति बहाली पर हुई चर्चा       Lokswami      
मध्यप्रदेश में बाढ़ के हालात कायम, आज भी बारिश की आशंका       Lokswami      
केरल में बाढ़ से मृतकों की संख्या 113 हुई , 29 लोग लापता       Lokswami      
भावपूर्ण अभिनय करने में माहिर है सचिन       Lokswami      
उनचास वर्ष के हुये सैफ अली खान       Lokswami      
बाढ़ पीड़ितों के लिये 500 घर बनायेंगे नाना पाटेकर       Lokswami      
रूपा गांगुली का बेटा तेज रफ्तार वाहन चलाने के मामले में गिरफ्तार       Lokswami      
इंदिरासागर गेट (भोल 5 के साथ) इंदिरा सागर के गेट खुले       Lokswami      
शेख हसीना ने बंगलादेश के राष्ट्रपिता को दी श्रद्धांजलि       Lokswami      
ब्रह्मपुत्र का प्रवाह मोड़ने की बात अफवाह : तिब्बत प्रशासन       Lokswami      
ग्रीनलैंड को खरीदना चाहते हैं ट्रम्प       Lokswami      
पाकिस्तान में भारतीय फिल्मों की सीडी बिक्री करने वाली दुकानों पर कार्रवाई       Lokswami      
ईरान को लेकर इज़राइल और यूएई ने की गुप्त बैठक       Lokswami      
नंबर एक ओसाका और बार्टी तीसरे दौर में       Lokswami