Header Ads

 
कृषि विशेषज्ञ ‘नेल जयरामन’ का कैंसर से निधन
Thursday, Dec 6 2018
 

चेन्नई 06 दिसंबर कृषि विशेषज्ञ 'नेल' जयरामन का दो साल तक कैंसर से जूझने के बाद गुरुवार सुबह एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उन्होंने परंपरागत धान की लुप्त 174 किस्मों के बीजों को फिर से विकसित किया और जैविक खेती को बढावा देने के लिए किसानों को दिया। श्री नेल का यहां स्थित अपोलो कैंसर स्पेशियलिटी अस्पताल में उपचार चल रहा था। बुधवार रात उनकी स्थिति बहुत ही गंभीर हो गई और आज तडके 05:20 बजे उनका निधन हो गया। वह तिरुवरूर जिले के कट्टिमेडु गांव के रहने वाले थे। वह जैविक खेती के विशेषज्ञ स्वर्गीय नम्मलवार के छात्र थे और उन्होंने पारंपरिक धान के बीजों को बचाने की दिशा में काम किया। श्री जयरामन के धान के संरक्षण में उनके प्रयासों के लिए, उनके सलाहकार और गुरु नम्मलवार ने उन्हें 'नेल' धान उपनाम दिया। उन्होंने लुप्त हुए पारंपरिक धान को फिर से विकसित करने के लिए 2004 में अपने गांव में उसकी खेती शुरू की और 2006 में तिरुवुरूर जिले के अपने अदिरंगम गांव में आयोजित पहले धान फेस्टिवल में बीज वितरित किए। बाद में इस फेस्टिवल को वार्षिक तौर पर मनाया जाने लगा। यह फेस्टिवल, किसानों और कृषिविदों की एक पहचान बन गया है। श्री जयरामन को जैविक खेती में उनके योगदान के लिए तमिलनाडु सरकार ने 2011 में सर्वश्रेष्ठ जैविक किसान सम्मान प्रदान किया और चार साल बाद उन्हें सर्वश्रेष्ठ जीनोम रक्षक के राष्ट्रीय सम्मान से नवाजा गया। उन्होंने पारंपरिक धान के बीजों के संरक्षण पर कई पुस्तके भी लिखीं। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
‘मॉर्डन गुरुकुल’ के ‘सेक्सी गुरु’ की नई सेक्सी स्टोरी...       Lokswami      
कमलनाथ पर अभी से मंडराने लगे सियासी आफती बादल       Lokswami      
दुष्कर्म मामले में विधायक राजवल्लभ समेत छह दोषी करार       Lokswami      
ब्राजील ने पहली स्वदेश निर्मित पनडुब्बी को किया लांच       Lokswami      
शादी के बाद खुद में बदलाव नहीं चाहते रणवीर सिंह       Lokswami      
एमएनएफ अध्यक्ष जोरमथांगा ने मिजोरम के नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली       Lokswami      
राजपक्षे का श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा       Lokswami      
विकास परक योजनाओं के तीर से कांग्रेस के गढ को भेदेंगे मोदी       Lokswami      
आनंदपाल प्रकरण में दर्ज मामलें वापस ले-कालवी       Lokswami      
24 दिसंबर को मिलेगी पनकी धाम रेलवे स्टेशन को पूर्ण मान्यता       Lokswami      
मुठभेड स्थलों पर प्रदर्शन से निपटने के उपाय सीखना जरूरी: उमर       Lokswami      
स्टार्टअप आयेंगे जीईएम प्लेटफॉर्म पर       Lokswami      
आग लगने से पांच घर जलकर नष्ट       Lokswami      
फ्रांस के साथ भारत के काफी पुराने और व्यापक रक्षा संबंध : सुषमा       Lokswami      
विषैला चारा खाने से 11 मवेशियों की मौत       Lokswami      
आॅस्ट्रेलिया ने माना पश्चिमी यरुशलम को इजरायल की राजधानी       Lokswami      
हवाई सीमा के उल्लंघन को लेकर इराक ने तुर्की राजदूत को किया तलब       Lokswami      
700 करोड के क्लब में शामिल हुयी 2.0 फिल्म       Lokswami      
शाहरूख ने ‘जीरो’ में काम करने की वजह बतायी       Lokswami      
शाहरूख के बाद रितेश बनेंगे बौना       Lokswami