Header Ads

 
किसानों की दयनीय स्थिति के लिए पूर्ववर्ती सरकारें जिम्मेदार : राजनाथ
Thursday, Jul 11 2019
 

नयी दिल्ली 11 जुलाई लोकसभा में उपनेता एवं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसानों की दयनीय स्थिति के लिए पूर्ववर्ती सरकारों को जिम्मेदार ठहराते हुए गुरुवार को कहा कि पिछले पाँच साल में देश में किसान-आत्महत्या के मामले कम हुए हैं। दिलचस्प बात यह है कि कृषि एवं कृषक कल्याण राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने नौ जुलाई को एक पूरक प्रश्न के उत्तर में सदन को बताया था कि वर्ष 2015 में किसान-आत्महत्या के मामले बढे थे जबकि उसके बाद के आँकडे सरकार के पास उपलब्ध नहीं हैं। कांग्रेस सदस्य राहुल गाँधी द्वारा आज सदन में केरल के किसानों का मुद्दा उठाये जाने पर रक्षा मंत्री ने अपने जवाब में कहा “जहाँ तक किसानों की स्थिति का प्रश्न है, साल-दो साल या चार-पाँच साल के अंदर ही किसानों की दयनीय स्थिति नहीं हुई है। लंबे समय तक जिन्होंने सरकार चलाई है इसके लिए वे लोग ही जिम्मेदार हैं।” उन्होंने कहा कि जबसे मोदी सरकार सत्ता में आयी है, लगातार किसानों की आमदनी को दो गुणा करने के लिए प्रयत्न किये जा रहे हैं। जितना न्यूनतम समर्थन मूल्य इस सरकार ने पाँच वर्षों में बढाने का काम किया है, उतना 60 साल के इतिहास में किसी भी सरकार ने नहीं बढाया है। किसान सम्मान निधि योजना के तहत हर किसान को छह हजार रुपये प्रति वर्ष की राशि देने का निर्णय इस सरकार ने लागू किया जिससे उनकी आमदनी 20 से 25 प्रतिशत बढी है। किसान आत्महत्या के मामले पर श्री सिंह ने कहा, “सबसे ज्यादा आत्महत्या यदि किसानों ने की है तो इससे पहले की सरकारों के कार्यकाल की है। मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि पाँच साल में किसान-आत्महत्या के मामले कम हुए हैं।” इससे पहले श्री गाँधी ने शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि बुधवार को उनके संसदीय क्षेत्र वायनाड के एक किसान ने कर्ज के दबाव में आत्महत्या कर ली। अकेले वायनाड में बैंकों ने लगभग आठ हजार किसानों को ऋण वसूली का नोटिस दिया है। सरफेसी कानून के तहत बैंक उनकी संपत्ति जब्त कर रहे हैं। उन पर बेघर होने का खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस सदस्य ने कहा कि बैंकों द्वारा डेढ साल पहले वसूली प्रक्रिया शुरू की गयी थी और तब से केरल में 18 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। केरल सरकार ने 31 दिसंबर तक ऋण वसूली पर रोक का प्रस्ताव किया है, लेकिन केंद्र सरकार रिजर्व बैंक को इसे लागू करने का निर्देश देने से इनकार कर रही है। उन्होंने केंद्र सरकार पर किसानों के साथ भेदभावपूर्ण बर्ताव करने का आरोप लगाते हुए कहा, “पिछले पाँच साल में भाजपा सरकार ने धनाढ्यों को 4.3 लाख करोड रुपये की कर छूट दी है और उनके 5.5 लाख करोड रुपये बट्टेखाते में डाल दिये हैं। यह दो तरह का व्यवहार क्यों? सरकार ऐसा क्यों दिखा रही है जैसे किसानों हीन हों।” श्री गाँधी ने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वह केरल सरकार के ऋण वसूली पर रोक के प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए रिजर्व बैंक को निर्देश दे ताकि किसानों को भयमुक्त किया जा सके। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
धनखड पश्चिम बंगाल के और फागु चौहान बिहार के नये राज्यपाल       Lokswami      
टैंकर के चालक दल के 23 सदस्यों में भारतीय भी       Lokswami      
रूस का नाटो से सैन्य वार्ता फिर शुरू करने पर जोर       Lokswami      
संरा ने जापान में आगजनी हमले में लोगों की मौत पर दुख प्रकट किया       Lokswami      
रूस सुनिश्चित करे कि ईरान इसके नागरिकों के अधिकारों का सम्मान करे: कोसाचेव       Lokswami      
डेयरी उद्योग को लेकर दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति को एनजीटी की फटकार       Lokswami      
खुद को मिसफिट एक्टर समझता था :अनिल कपूर       Lokswami      
आलिया भट्ट को अपनी प्रेरणा मानती हैं अनन्या पांडे       Lokswami      
अल्जीरिया 29 साल बाद फिर बना अफ्रीका चैंपियन       Lokswami      
धोनी ने खुद को विंडीज दौरे से किया अलग       Lokswami      
पटेल की शानदार पारी के बावजूद हारा भारत ए       Lokswami      
दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से       Lokswami      
मिशन मंगल की स्क्रिप्ट काफी बेहतरीन :विद्या बालन       Lokswami      
गायक बनने की तमन्ना रखते थे आनंद बख्शी       Lokswami      
39 वर्ष की हुयीं ग्रेसी सिंह       Lokswami      
प्रियंका की गिरफ्तारी प्रजातंत्र का दमन : कांग्रेस       Lokswami      
सिद्धू का इस्तीफा मंजूर ,अमरिंदर संभालेंगे बिजली विभाग का कामकाज       Lokswami      
टंडन को राज्यपाल बनाए जाने पर कमलनाथ ने दी शुभकामनाएं       Lokswami      
प्रियंका को रोकना भाजपा की फासिस्‍टवादी सोच: अजय       Lokswami      
आईसीजे के फैसले के बाद पाकिस्तान जाधव को राजनयिक मदद प्रदान कराने पर राजी       Lokswami