Header Ads

 
किसानों की दयनीय स्थिति के लिए पूर्ववर्ती सरकारें जिम्मेदार : राजनाथ
Thursday, Jul 11 2019
 

नयी दिल्ली 11 जुलाई लोकसभा में उपनेता एवं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसानों की दयनीय स्थिति के लिए पूर्ववर्ती सरकारों को जिम्मेदार ठहराते हुए गुरुवार को कहा कि पिछले पाँच साल में देश में किसान-आत्महत्या के मामले कम हुए हैं। दिलचस्प बात यह है कि कृषि एवं कृषक कल्याण राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने नौ जुलाई को एक पूरक प्रश्न के उत्तर में सदन को बताया था कि वर्ष 2015 में किसान-आत्महत्या के मामले बढे थे जबकि उसके बाद के आँकडे सरकार के पास उपलब्ध नहीं हैं। कांग्रेस सदस्य राहुल गाँधी द्वारा आज सदन में केरल के किसानों का मुद्दा उठाये जाने पर रक्षा मंत्री ने अपने जवाब में कहा “जहाँ तक किसानों की स्थिति का प्रश्न है, साल-दो साल या चार-पाँच साल के अंदर ही किसानों की दयनीय स्थिति नहीं हुई है। लंबे समय तक जिन्होंने सरकार चलाई है इसके लिए वे लोग ही जिम्मेदार हैं।” उन्होंने कहा कि जबसे मोदी सरकार सत्ता में आयी है, लगातार किसानों की आमदनी को दो गुणा करने के लिए प्रयत्न किये जा रहे हैं। जितना न्यूनतम समर्थन मूल्य इस सरकार ने पाँच वर्षों में बढाने का काम किया है, उतना 60 साल के इतिहास में किसी भी सरकार ने नहीं बढाया है। किसान सम्मान निधि योजना के तहत हर किसान को छह हजार रुपये प्रति वर्ष की राशि देने का निर्णय इस सरकार ने लागू किया जिससे उनकी आमदनी 20 से 25 प्रतिशत बढी है। किसान आत्महत्या के मामले पर श्री सिंह ने कहा, “सबसे ज्यादा आत्महत्या यदि किसानों ने की है तो इससे पहले की सरकारों के कार्यकाल की है। मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि पाँच साल में किसान-आत्महत्या के मामले कम हुए हैं।” इससे पहले श्री गाँधी ने शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि बुधवार को उनके संसदीय क्षेत्र वायनाड के एक किसान ने कर्ज के दबाव में आत्महत्या कर ली। अकेले वायनाड में बैंकों ने लगभग आठ हजार किसानों को ऋण वसूली का नोटिस दिया है। सरफेसी कानून के तहत बैंक उनकी संपत्ति जब्त कर रहे हैं। उन पर बेघर होने का खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस सदस्य ने कहा कि बैंकों द्वारा डेढ साल पहले वसूली प्रक्रिया शुरू की गयी थी और तब से केरल में 18 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। केरल सरकार ने 31 दिसंबर तक ऋण वसूली पर रोक का प्रस्ताव किया है, लेकिन केंद्र सरकार रिजर्व बैंक को इसे लागू करने का निर्देश देने से इनकार कर रही है। उन्होंने केंद्र सरकार पर किसानों के साथ भेदभावपूर्ण बर्ताव करने का आरोप लगाते हुए कहा, “पिछले पाँच साल में भाजपा सरकार ने धनाढ्यों को 4.3 लाख करोड रुपये की कर छूट दी है और उनके 5.5 लाख करोड रुपये बट्टेखाते में डाल दिये हैं। यह दो तरह का व्यवहार क्यों? सरकार ऐसा क्यों दिखा रही है जैसे किसानों हीन हों।” श्री गाँधी ने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वह केरल सरकार के ऋण वसूली पर रोक के प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए रिजर्व बैंक को निर्देश दे ताकि किसानों को भयमुक्त किया जा सके। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
रेणुका ने की असम में आदिवासियों की योजनाओं की समीक्षा       Lokswami      
महाराष्ट्र में राज्यपाल की सिफारिश संविधान सम्मत : शाह       Lokswami      
सोनिया, मनमोहन, राहुल ने नेहरू को 130 वी जयंती पर दी श्रद्धांजलि       Lokswami      
कृतज्ञ राष्ट्र ने नेहरू को 130 वीं जयंती पर किया नमन       Lokswami      
राहुल को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत       Lokswami      
राफेल मामले में पुनर्विचार याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में खारिज       Lokswami      
अश्विनी ने गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया       Lokswami      
नीता अंबानी न्यूयार्क मेट्रोपालिटन म्यूजियम आफ आर्ट के ट्रस्ट में शामिल       Lokswami      
कैलाश चौधरी एवं हनुमान बेनीवाल की गाड़ी पर पथराव       Lokswami      
महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना अच्छा फैसला नहीं-गहलोत       Lokswami      
महाराष्ट्र कांग्रेस विधायक मुम्बई रवाना       Lokswami      
लैला मैं लैला गाने पर सनी लियोनी ने लगाए ठुमके       Lokswami      
सैफ ने अमृता को दिया सफलता का क्रेडिट       Lokswami      
रॉकस्टार का किरदार निभाने वाले थे सैफ अली खान       Lokswami      
अक्षय,कैटरीना ने रिक्रिएट किए ‘नमस्ते लंदन’ का सीन       Lokswami      
शकुंतला देवी बायॉपिक में विद्या बालन के दामाद बनेंगे अमित साध       Lokswami      
अगले साल जनवरी में कृष 4 की शूटिंग शुरू करेंगे ऋतिक रौशन!       Lokswami      
पानीपत में जीनत अमान का लुक रिलीज       Lokswami      
बाला को मिल रही सफलता पर आयुष्मान ने जताया आभार       Lokswami      
मुन्नी बदनाम हुई पर जैकलीन के साथ नाचे सलमान       Lokswami