Header Ads

 
एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रूपये
01/10/2019 23:13:35
 

मुंबई 02 अक्टूबर (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रूपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तप्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था। उनके पिता एक सब इस्पैक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे। मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उर्तीण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर मे हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली। उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रैक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया। इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
24 टीमों का होना चाहिए हॉकी विश्वकप: हरेंद्र       Lokswami      
आईलीग में 11 टीमें, चैंपियन को मिलेंगे 1 करोड़       Lokswami      
चंदगीराम अखाड़े के पहलवानों से भिड़े कमांडो विद्युत जामवाल       Lokswami      
नेगी को दिल्ली टीम से बाहर करना अनुचित: कोच       Lokswami      
ओली मंत्रिमंडल का विस्तार       Lokswami      
राजनीतिक विज्ञापनों पर नियम कड़े करेगा गूगल       Lokswami      
हरेन पांड्या हत्या के दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं खारिज       Lokswami      
आईटीओ स्थित सेल्स टैक्स दफ्तर में लगी आग       Lokswami      
संस्कृत के मुस्लिम प्रोफेसर के विरोध पर बरसी प्रियंका       Lokswami      
एलायंस एयर ने शुरू की अहमदाबाद और बंदरगाह शहर कंडला के बीच सीधी उड़ान सेवा       Lokswami      
टॉप-5 ऑनलाइन पंखा कंपनियों में शुमार एटमबर्ग का 5 साल में प्रीमीयम बाजार के 1/3 से अधिक हिस्से पर कब्जे का लक्ष्य       Lokswami      
ओबीसी को और आरक्षण देने के लिए भाजपा सरकार कर रही काम : शाह       Lokswami      
भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 नवंबर की प्रमुख घटना       Lokswami      
भारतीय सिनेमा के गांधी थे वही शांताराम       Lokswami      
चन्द्रयान 2 मिशन को विफल कहना न्यायोचित नहीं :सरकार       Lokswami      
मैं अतीत को पीछे छोड़ आगे बढ़ चुका हूं : स्मिथ       Lokswami      
आंसुओं को बहने दो, ये तुम्हें और मजबूत बनाएंगे: सचिन       Lokswami      
गुलाबी गेंद से क्रिकेट का रोमांच बढ़ेगा: सीके खन्ना       Lokswami      
माराडोना ने गिमनासिया बॉस के पद को छोड़ा       Lokswami      
नडाल ने स्पेन को रूस के खिलाफ दिलाई 2-1 से जीत       Lokswami