Header Ads

 
आरआईएसएटी-2बी का सफल प्रक्षेपण, सुरक्षा बलों- आपदा एजेंसियों को मिलेगी मदद
Wednesday, May 22 2019
 

चेन्नई, 22 मई भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो ने बुधवार को रडार इमेजिंग उपग्रह आरआईएसएटी-2बी का सफल प्रक्षेपण कर नया इतिहास रच दिया। पृथ्वी की निगरानी करने वाले इस उपग्रह का प्रक्षेपण पीएसएलवी-सी46 के जरिये यहां से करीब 80 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से तडके 05:30 बजे प्रक्षेपण किया गया। प्रक्षेपण के 15 मिनट 25 सेकंड के बाद 615 किलोग्राम वजनी आरआईएसएटी-2बी को भूमध्यरेखा से 37 डिग्री के झुकाव के साथ 556 किलोमीटर की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया गया। प्रक्षेपण की 25 घंटों की उलटी गिनती श्रीहरिकोटा में मंगलवार तडके 04:30 बजे शुरू हो गयी थी। आरअाईएसएटी-2बी के सफल प्रक्षेपण के बाद इसरो के अध्यक्ष डॉ. के. शिवन ने कहा, “मुझे यह घोषणा करते हुए बेहद खुशी हो रही है कि पीएसएलवी-सी46 ने आरआईएसएटी-2बी को सफलतापूर्वक निर्धारित कक्षा में स्थापित कर दिया। आरआईएसएटी-2बी को भूमध्यरेखा से 37 डिग्री के झुकाव के साथ 556 किलोमीटर की कक्षा में स्थापित कर दिया गया है।” उन्होंने कहा, “यह मिशन इस मायने में महत्वपूर्ण है कि पीएसएलवी ने अंतरिक्ष में 50 टन का वजन प्रक्षेपित करने का रिकॉर्ड पार किया है। इसने अब तक 350 उपग्रहों का प्रक्षेपण किया है जिनमें से 47 राष्ट्रीय उपग्रह हैं और शेष छात्रों के एवं विदेशी उपग्रह हैं।” आरआईएसएटी-2बी इसरो के आरआईएसएटी कार्यक्रम का चौथा चरण है और इसका इस्तेमाल रणनीतिक निगरानी और आपदा प्रबंधन के लिए किया जाएगा। यह उपग्रह एक सक्रिय एसएआर सिंथेटिक अर्पचर रडार इमेजर से लैस है जो पृथ्वी की निगरानी की क्षमता बढाता है। उपग्रह का ‘रेगुलर’ रिमोट-सेंसिंग या ऑप्टिकल इमेजिंग उपग्रह बादल छाये रहने या अंधेरे में पृथ्वी पर छिपे वस्तुओं का पता नहीं लगा पाता है जबकि एक सक्रिय सेंसर ‘एसएआर’ से लैस यह उपग्रह दिन हो या रात, बारिश या बादल छाये रहने के दौरान भी अंतरिक्ष से एक विशेष तरीके से पृथ्वी की निगरानी कर सकता है। सभी मौसम में काम करने की यह विशेषता इसे सुरक्षा बलों और आपदा राहत एजेंसियों के लिये मददगार बनाती है। यह उपग्रह कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में बडी उपलब्धि है। अंतरिक्ष से पृथ्वी की निगरानी क्षमता को और विकसित करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी निकट भविष्य में कम से कम छह और ऐसे उपग्रहों का प्रक्षेपण करने की योजना बना रही है। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
बारिश के कारण केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य प्रभावित       Lokswami      
योगी ने गोरखनाथ मंदिर में की कान्हा की पूजा अर्चना       Lokswami      
रमन सिंह ने अरूण जेटली के निधन पर किया गहरा दुख व्यक्त       Lokswami      
सुमित्रा महाजन ने जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया       Lokswami      
पाकिस्तान के रेलमंत्री शेख रशीद पर लंदन में अंडे फेंके गए       Lokswami      
भारत विश्व का ध्यान भटकाने के लिए झूठ का लेगा सहारा: इमरान       Lokswami      
नये भारत में भ्रष्टाचार, लूट, आतंकवाद पर कस रही है लगाम: मोदी       Lokswami      
ईराक के बगदाद में विस्फोट, 4 की मौत और कई घायल       Lokswami      
उ.कोरिया ने जापान के समुद्र में दागी अज्ञात मिसाइल       Lokswami      
इसराइली सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष में 122 फिलिस्तानी प्रदर्शनकारी घायल       Lokswami      
कश्मीर मामले पर भारत से बातचीत करें पाकिस्तान:जर्मनी       Lokswami      
जॉनसन, ट्रम्प ने वैश्विक व्यापार के संबंध में चर्चा की       Lokswami      
अमेजन आग: ब्राजील ने भेजी सेना       Lokswami      
चीन ने हुवेई की वरिष्ठ अधिकारी की रिहाई की मांग की       Lokswami      
रूस ने किया पनडुब्बी मिसाइलों का परीक्षण       Lokswami      
सलमान,आलिया की इंशाअल्लाह, प्रीटी वूमेन से होगी प्रेरित       Lokswami      
शकुंतला की बायोपिक को लेकर उत्साहित हैं विद्या       Lokswami      
आयुष्मान की अंधाधुन साउथ कोरिया में होगी रिलीज       Lokswami      
कॉल गर्ल्स के नाम पर ऑनलाइन पैसे ठगने वाले गिरोह का भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार       Lokswami      
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का निधन, 9 अगस्त से एम्स में थे भर्ती       Lokswami