Header Ads

 
असांजे का अमेरिका को प्रत्यर्पित किया जाना मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन : विशेषज्ञ
Friday, Apr 12 2019
 

संयुक्त राष्ट्र,12 अप्रैल संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि लंदन में गिरफ्तार किए गए विकीलीक्स के सह संस्थापक जूलियन असांजे को अगर अमेरिका को प्रत्यर्पित किया जाता है तो यह उनके मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन होगा। इक्वाडोर सरकार ने असांजे को लंदन स्थित अपने दूतावास में और राजनयिक शरण देने से मना कर दिया था और इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। न्यायिक प्रकिया का पालन किए बगैर सजा दिए जाने के मामलों को देखने वाली संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रतिनिधि एगनेस कालामार्ड ने ट्वीट करके कहा कि असांजे को दूतावास से बाहर निकाला जाना और गिरफ्तार किया जाने से उनके प्रत्यर्पण की दिशा में एक कदम पूरा कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि अब ब्रिटेन ने निरंकुश तरीके से उन्हें अपनी गिरफ्त में ले रखा है। प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार ब्रिटेन अब इस बात का आकलन करेगा कि आस्ट्रेलियाई नागरिक असांजे को अमेरिका को प्रत्यर्पित किया जाए या नहीं क्योंकि वहां उन्हें पांच वर्ष कैद की सजा हो सकती है। बताया जा रहा है कि ब्रिटेन ने लिखित में इक्वाडोर सरकार को यह आश्वासन दिया है कि असांजे को किसी ऐसे देश को नहीं सौंपा जाएगा जहां उन्हें टार्चर किया जाने अथवा मौत की सजा दिए जाने की आशंका है। कल जब असांजे को सेंट्रल लंदन की अदालत में पेश हुए तो उन्हें अदालत में 2012 में आत्मसमर्पण नहीं करने का दोषी पाया गया और अब उन्हें एक वर्ष कैद की सजा सुनाई गई है। निजता के अधिकार पर एक अन्य प्रतिनिधि जोई कान्नाटाकी ने जारी एक बयान में कहा “ भले ही असांजे को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन इसके बावजूद मैं अपने उन प्रयासों का आकलन करना नहीं छोडूंगा जिनमें उनकी निजता का उल्लंघन होने का दावा किया गया है। उन्हें जहां भी रखा जाएगा मैं वहीं जाकर उनसे बातचीत करूंगा तथा देखने जाउंगा।” विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि चूंकि लंदन ने मानवाधिकार संधि का अनुमोदन कर रखा है ऐसे में इस कानून के अनुरूप उन्हें अपनी कहीं भी निर्बाध आने जाने की स्वतंत्रता के अधिकार का इस्तेमाल करना चाहिए। 

 
 
   
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सुर्खियां
कानपुर के पास पूर्वा एक्सप्रेस बेपटरी, 20 घायल       Lokswami      
राम नाईक पूर्णत: स्वस्थ अस्पताल से मिली छुट्टी       Lokswami      
दो चरण के मतदान के बाद दीदी की नींद उडी: मोदी       Lokswami      
कश्मीर राजमार्ग खुला, केवल फंसे वाहनों को गुजरने की अनुमति       Lokswami      
मोदी ने सरकारी कंपनियों का हक छिना, निजी क्षेत्र काे पहुंचाया लाभ : कांग्रेस       Lokswami      
साहित्यकारों ने मोदी को समर्थन देने की अपील की       Lokswami      
भाजपा को 2014 का प्रदर्शन दोहराने की चुनौती       Lokswami      
मंत्री वर्मा बोले- विजयवर्गीय कह रहे थे चुनाव लड़ूंगा, पता चला टिकट नहीं मिलेगा तो मना किया       Lokswami      
कांग्रेस का चेहरा संघवी, 21 साल से चुनाव नहीं जीते, पर समाज-व्यापारी वर्ग में पकड़ से फिर मिला मौका       Lokswami      
कैलाश विजयवर्गीय का इंदौर से चुनाव लड़ने से इंकार, कहा- बंगाल में रहना मेरा कर्तव्य       Lokswami      
मैक्रॉं ने नोट्रे-डेम कैथेड्रल के पुनर्निमाण का वादा किया       Lokswami      
150 करोड के क्लब में शामिल हुई केसरी       Lokswami      
वरुण और सारा को लेकर कुली नंबर वन का रीमेक बनायेंगे डेविड धवन!       Lokswami      
अश्वत्थामा का किरदार निभायेंगे विकी कौशल       Lokswami      
फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिज्म से कोई दिक्कत नहीं : राधिका       Lokswami      
उत्तर बंगाल में भाजपा सांसद रूपा गांगुली की कार पर हमला       Lokswami      
माकपा ने की पश्चिम त्रिपुरा में पुनर्मतदान की मांग       Lokswami      
तेज हवाओं और बूंदाबांदी से बदला मौसम का मिजाज       Lokswami      
कनाडा में गोलीबारी, चार की मौत       Lokswami      
आबे ने विश्व अर्थव्यवस्था पर ब्रेक्सिट के प्रभाव को कम करने की अपील       Lokswami